मंगलवार, 8 सितंबर 2009

हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे! ! ! ! ! ! !



ख़्वाबों की दुनिया में जीना कितना अच्छा लगता है,


होता है वहाँ बिल्कुल वैसा जैसा कि


हम सोचते हैं।


मेरे ख्वाबों में वो आना उनका,


मुझे नींद में से जगाना उनका,


मेरे चेहरे पे अपनी जुल्फों का गिराना उनका,


अपनी खुशबू से मेरे वजूद को महकाना उनका,


वो चलना मेरे साथ उस रस्ते पे जिसकी कोई मंज़िल नही,


वो बैठ जाना किसी वीराने में मेरे साथ उनका,


और


वो तन्हाईयों को महफिल बनाना उनका।



जब -जब जागे हम नींद से आँखें मलके,


ढूँढा उन्हें तो उनका कोई निशाँ न मिला,


वो आते नहीं अब हमसे मिलने जागते हुए,


ग़र वो कह दें कि सिर्फ़ ख़्वाबों में ही मिलने आएंगे,


तो क्या ज़रूरत है मुझे जगने की ,


हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥


43 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

मेरे ख्वाबों में वो आना उनका,
मुझे नींद में से जगाना उनका,
मेरे चेहरे पे अपनी जुल्फों का गिराना उनका,
अपनी खुशबू से मेरे वजूद को महकाना उनका,

वाह--वाह.....।
आपकी तो
शायरी बहुत बढ़िया है।
बधाई!

raj ने कहा…

वो आते नहीं अब हमसे मिलने जागते हुए,

ग़र वो कह दें कि सिर्फ़ ख़्वाबों में ही मिलने आएंगे,.....har roj nayee taza shikayat hai unse allah re kitni mohabbat hai unse....

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत बढ़िया ख्याल हैं ...

Mithilesh dubey ने कहा…

भाई वाह क्या बात है। बहुत खुब

'अदा' ने कहा…

वो आते नहीं अब हमसे मिलने जागते हुए,
ग़र वो कह दें कि सिर्फ़ ख़्वाबों में ही मिलने आएंगे,
तो क्या ज़रूरत है मुझे जगने की ,
हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥
ab ham kya kahein ji
Raaj ji ne to sab kuch kah hi diya
lekin ham nahi chahte ki
हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥
aisa kuch bhi ho.

M VERMA ने कहा…

बहुत खूब ---
कहते है कि ख्वाब तो हकीकत की परछाई है. आँखे खोलके देखेंगे तो क्या पता वे आपके सामने हो.
बहुत सुन्दर लिखा है.
हम भी ख्वाबो मे खोने को आतुर हो गये

'अदा' ने कहा…

अरे हजूर,
फोटोवा त बहुते नीमन बा बाकि लोड्की सोवता...
और कवितवा में सपना तो रउवा न देखत बानी तो इ तो एकदम 'नींद हमारे ख्वाब तुम्हारे' वाला मामला है महराज..
बहुते बढियां !!!!!

vikram7 ने कहा…

जब -जब जागे हम नींद से आँखें मलके,
ढूँढा उन्हें तो उनका कोई निशाँ न मिला,
वाह,बहुत बढ़िया

रश्मि प्रभा... ने कहा…

are waah........kya baat hai !!!!!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

lajawaab कहा janaab .......... kwaabon की दुनिया आप अपने hisaab से चला सकते हैं ..........

अनिल कान्त : ने कहा…

तो आजकल ख्वाबों में गुफ्तगू हो रही है

shikha varshney ने कहा…

आज आपकी बहुत सी रचनाएँ पड़ी..उनकी तारीफ करना तो जैसे सूरज को चिराग दिखाना होगा.फिर भी.... ये कविता बहुत खुबसूरत एहसास लिए है.एकदम सुबह की पहली किरण की तरह...

mehek ने कहा…

bahut sunder,khwab hote hi khubsurat hai.

Suman ने कहा…

nice

संगीता पुरी ने कहा…

सही है .. ख्‍वाबों में सबकुछ मिल तो जाता है .. कम नहीं यह !!

kshama ने कहा…

Aapke khwaab sachhaee me tabdeel hon,...yahee dua hai..!
Din-b-din aapkaa laekhan nikhartaa ja raha hai!

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन!!

उम्दा भावपूर्ण रचना!!

शरद कोकास ने कहा…

मज़ा नही आया महफूज़ और बेहतर लिख सकते हो तुम ।

rukhsar ने कहा…

O ho!

ग़र वो कह दें कि सिर्फ़ ख़्वाबों में ही मिलने आएंगे,
तो क्या ज़रूरत है मुझे जगने की ,
हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥

gr8

Babli ने कहा…

वाह बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने! रचना का हर एक शब्द दिल को छू गई! इस बेहतरीन और लाजवाब रचना के लिए ढेर सारी बधाइयाँ !

अनूप शुक्ल ने कहा…

काकेशजी की बात सुनिये। बाकी अच्छा है जी।

seema gupta ने कहा…

ये एक पंक्ति मुझे बहुत अच्छी लगी.....कुछ अजीब सी कशमकश है इस पंक्ति में......
वो चलना मेरे साथ उस रस्ते पे जिसकी कोई मंज़िल नही,
regards

ओम आर्य ने कहा…

वो बैठ जाना किसी वीराने में मेरे साथ उनका,
और
वो तन्हाईयों को महफिल बनाना उनका।
क्या कहे बहुत ही खुब .........दिल को छू गयी ये पंक्तियाँ

Maansi ने कहा…

जब -जब जागे हम नींद से आँखें मलके,

ढूँढा उन्हें तो उनका कोई निशाँ न मिला,achhi lagi yeh lines....

sadhana ने कहा…

ख़्वाबों की दुनिया में जीना कितना अच्छा लगता है,
होता है वहाँ बिल्कुल वैसा जैसा कि
हम सोचते हैं।

bilkul sahi... apni marji ki malik hote hai . achha hai ......

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत रूमानी ख्यालो से बुनी है आपने इस बार की रचना ..बहुत सुन्दर

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

Saarthak rachna kahi hai aapne.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

रज़िया "राज़" ने कहा…

अपनी खुशबू से मेरे वजूद को महकाना उनका,
वो चलना मेरे साथ उस रस्ते पे जिसकी कोई मंज़िल नही,
वो बैठ जाना किसी वीराने में मेरे साथ उनका,
और
वो तन्हाईयों को महफिल बनाना उनका।
और........
ग़र वो कह दें कि सिर्फ़ ख़्वाबों में ही मिलने आएंगे,
तो क्या ज़रूरत है मुझे जगने की ,
हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥
क्या बात है मह्फ़ूजअली। क्या लिख्खा है आपने। फ़िदा हो गये हमसब।

दुआ है अल्लाह आपको "महफ़ूज" रख्खे।

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) ने कहा…

achcha hai.. happy blogging

sandhya ने कहा…

bahut khubsurat khovab hai aapki....

sada ने कहा…

अपनी खुशबू से मेरे वजूद को महकाना उनका,
वो चलना मेरे साथ उस रस्ते पे जिसकी कोई मंज़िल नही,
वो बैठ जाना किसी वीराने में मेरे साथ उनका,

बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति, बधाई

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

बहुत सुन्दर, बुरा न माने अली साहब तो "का" की जगह "को" लिख दे ! हो सकता है कि यह आपको अच्छा न लगे, मगर क्या करे कुछ लोग आदत से मजबूर होते है !

मेरे चेहरे पे अपनी जुल्फों का [को] गिराना उनका,

Shefali Pande ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता .....

Shobhna Choudhary ने कहा…

Your writing skill is very striking and nice.This poem is really a nice bouquet of feelings.

Apoorv ने कहा…

हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥

I liked the title..the eternal truth..of ephemeral life...

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

तो क्या ज़रूरत है मुझे जगने की ,
हम भी हमेशा के लिए सो जायेंगे॥
kya bat hai. ati sunder.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

जीवन एक खिलौना है।
एक दिन सबको खोना है।
----------
आप लखनउ से ही हैं, यह और भी प्रसन्नता की बात है।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

चंदन कुमार झा ने कहा…

ख्वाबों की दुनियां भी अजीब होती है…………………बहुत सुन्दर ।

Pappu ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Pappu ने कहा…

हाँ तो महफूज़ मियाँ ,
ये बताएँ कि आप ख्वाबों कि दुनिया से बाहर कब आ रहे ???

महफूज़ अली ने कहा…

Main aap sab logon ka bahut shukrguzaar hoon.........

सर्वेश दुबे ने कहा…

अछि कविता है ,

indu ने कहा…

haan,khwabon ki duniya me jeena achchha lgta hai ,kintu....jb haqeekat ke biyaban jangel se gujarte hai shareer aur aatma lahuluhan ho jate hai .......sb kaho ,sb likho .....
ab jo likha naa ''hm bhi hmesha ke liye so jayenge '' to....
mamma ke hath se ks ks ke jhapte khaenge.
sb likho ,aisa na likho .....kisi ke dil ko dukhae wo kavita achchhi kese ho sakatee hai ?gandi....ekdm gandi...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

My page Visitors