शनिवार, 23 नवंबर 2013

###एक कविता: रेनेसांस (Renaissance)###





विचारक जागते हैं जब,
करवट विश्व लेता है,
पुराना देश धरती पर,
नए इम्तिहान देता है,
क्रान्ति के तूफ़ान उठते हैं
मौत की बाहें बढ़ी है,
रात ने एड़ी बजाई
भोर पहरे पर खड़ी है।

© महफूज़ 

शनिवार, 5 अक्तूबर 2013

### कविता: अखबारी कॉलम और कितना भूखा है ....कुछ फ़ोटोज़ ... मैं और : महफूज़ ####


सिर्फ एक कविता और कुछ फोटो :


(जॉगिंग के बाद बरगद के पेड़ के नीचे सुस्ताते हुए ... ह्म्म्म्फ़ .... ह्म्म्म्फ़्फ़्फ़) 


अखबारी कॉलम 
और विज्ञापन सूचना 
भार विहीन 
हल्की होती वेदना,
जितना तन रेतीला है 
मन उतना ही सूखा है ....
एक रोज़गार की प्रतीक्षा में 
बेरोज़गार दिन,
कितना भूखा है।।

(c) महफूज़


                                             (जयपुर के जौहरी मार्किट के एक मॉल के बाहर ....)

रविवार, 22 सितंबर 2013

अंगड़ाई, छोटा सा संस्मरण, क्वालिटी, लर्निंग मोड, शब्दों की नींद, सिर्फ पुरुषों के लिए, जानू और मेरे शोना : महफूज़

अम्म्म …. आह…(अंगड़ाई!!!!) अच्छा इस अंगड़ाई लेने का भी एक अलग मज़ा है ... थके हों या सोकर उठे हों, ज़रा सा बदन को हाथ ऊपर कर के थोडा पंजों के बल ऊपर की ओर स्ट्रेच करिए , फिर देखिये सारी की सारी थकान उतर जाएगी और एक अलग से तरो-ताज़गी फील होगी और चल दीजिये नहा धो कर अपने काम पर। अच्छा! डॉक्टर्स भी कहते हैं कि दिन भर में तीन से चार बार खड़े हो कर खुद भी यूँ ही अंगड़ाई ले लेनी चाहिए। इससे एक आपका शरीर दोबारा उर्जावान हो जाता है और काम करने की क्षमता बढ़ जाती है। साइंस तो यहाँ तक कहती है कि अंगड़ाई लेने से हड्डियों में लचीलापन मेंटेन रहता है और कई रोगों से भी बचाव हो जाता है। 

डॉक्टर से याद आया कि मेरे मित्र हैं डॉ. आनंद पाण्डेय, जो कि जाने माने ओर्थपेडीक सर्जन हैं। डॉ. आनंद के एक मित्र हैं डॉ. मुदित खन्ना जो डॉ. आनंद से दो साल जूनियर भी रहे हैं। डॉ. आनंद ने बताया कि मुदित जो हैं वो पेशे से डॉक्टर नहीं हैं जबकि ओर्थो में पी . जी . किया है डॉ मुदित ने। यह  थोडा सा सरप्राईज़िंग था मेरे लिए। डॉ . मुदित जो हैं वो पेशे से लेखक हैं और मेडिकल सब्जेक्ट्स पर ही क़िताबें लिखते हैं और उन्हें सिर्फ किताब लिखने के सालाना पांच करोड़ रुपये रॉयल्टी मिलती है। डॉ मुदित गोवा में रहते हैं और वैसे भोपाल के रहने वाले हैं। डॉ मुदित ने शादी नहीं की है और गोवा में एक आलिशान बंगले में रहते हैं और बत्तीस कारों का काफिला रखा हुआ है। और गोवा के ही एक हॉस्पिटल से अटैच्ड हैं ... मूड होता है तो पेशेंट देखते हैं नहीं तो पूरा दिन गोवा क्लब में ही रहते हैं। डॉ . मुदित ने सिविल सर्विसेज की परीक्षा एक बार पास की और तीसरी रैंक पर रहते हुए भी ज्वाइन नहीं किया। कहते हैं कि कौन फंसे? डॉ मुदित बहुत ही जिंदादिल पर्सनालिटी के इंसान हैं जिनका ज़्यादातर समय बियर और खूबसूरत लड़कियों के साथ बीतता है। डॉ. मुदित ने पहली किताब मज़ाक मज़ाक में जब एम बी बी एस फाइनल इयर में थे तभी  लिख डाली थी और पहली ही किताब पॉपुलर हो गयी थी जिसका पहला चेक उन्हें पांच लाख का मिला था और अब बाकी सिर्फ बताने के लिए है. डॉ. मुदित से मैंने जब पूछा सफलता का राज़ तो सिर्फ एक कारण बताया उन्होंने अपार्ट फ्रॉम पेरेंट्स एंड गॉड'स ब्लेस्सिंग्स कि मस्त रहो, टेंशन फ्री रहो और जो मन कहे वही करो. डॉ. मुदित जैसी शख्सियत से मिलने के बाद एक अलग ही फीलिंग आती है और यह  भी फीलिंग आ सकती है कि यार हम शायद अपनी ज़िन्दगी वेस्ट कर रहे हैं. वैसे मैंने एक चीज़ सीखी कि ज़िन्दगी में क्वालिटी और क्वालिटी लोग बहुत मायने रखते हैं. 

(डॉ  . मुदित)

(डॉ आनंद)

क्वालिटी से फिर याद आया  …. बाय गॉड बता रहा हूँ कि आज याद बहुत कुछ आ रहा है. हाँ! तो मैं बता रहा था कि ज़िन्दगी में क्वालिटी बहुत मायने रखती है ख़ास कर लोग जो आपके आस-पास हैं उनकी क्वालिटी क्या है? अगर क्वालिटी लाइफ नहीं होगी तो तरक्की रुक जाती है और क्वालिटी पैसे के अलावा एटीट्युड से भी भी आती है. और अपने आस-पास हमेशा ऐसे लोग रखिये जिनसे कुछ सीखने को मिले और जो आपको हमेशा लर्निंग मोड में रखें। जो आपकी राह में बाधा बनें तो ऐसे लोगों से दूर हो जाना ही सही है. 
(अब ये मैं ही हूँ  … यूँ ही मॉल में आनंद के साथ पिक्चर देखने गया था रात में ग्यारह बजे)

मैं हर बार सोचता हूँ कि ब्लॉग रोज़ लिखूंगा… टाइम इसकी परमिशन नहीं देता और वैसा भी मैं रोज़ नहीं लिखता था और ना ही लिख पाउँगा  … भई! इतना फ़ालतू टाइम भी तो होना चाहिए और फिर उसके बाद लिखने के लिए टॉपिक। रोज़ाना ज़िन्दगी में ऐसे बहुत से वाकये होते हैं जिन्हें लिखा जा सकता है मगर उन्हें भी लिखने के लिए शब्दों को नींद से जगाना पड़ता है और शब्दों की नींद टूटती देरी से ही है. तो जब मूड करता है तभी ही लिखना हो पाता है. आह! बहुत हुआ…. अब चलता हूँ। 

चलते चलते एक मजेदार बात सिर्फ पुरुषों के लिए (वैसे यह मैं नहीं कह रहा… एक रिसर्च ने कहा है) वो यह कि भाई अगर आपने नेट से कोई गर्ल फ्रेंड या बीवी बनायीं है और वो आपको जानू, कुत्ता, जलनटू, शोना, बेबी, या फिर कोई और प्यार के संबोधन से पुकारती है तो आप सावधान हो जाइये  … आपके अलावा और भी लोगों को ऐसे संबोधनों से पुकारा जा रहा होगा  … तस्दीक करने के लिए आप अपनी उनसे पासवर्ड अचानक में मांग कर चेक कर लीजिये  …. हा हा हा  … आँखें खुल जायेंगीं। ख़ैर! चलिए यह तो मज़ाक की बात हो गयी  … अब आपको अपनी एक सीरियस कविता पढ़वाता हूँ जो कि रियलिस्टिक कविता है : --- तो लीजिये पेश-ऐ-नज़र है ----


### अखबारी कॉलम और कितना भूखा है ####


अखबारी कॉलम 
और विज्ञापन सूचना 
भार विहीन 
हल्की होती वेदना,
जितना तन रेतीला है 
मन उतना ही सूखा है ....
एक रोज़गार की प्रतीक्षा में 
बेरोज़गार दिन,
कितना भूखा है।। 

(c) महफूज़

कविता तो चलती रहती है और कविता लिखी भी तभी जा सकती है जब भावनाएं अपने चरम पर हों  …अंत में यही मायने रखता है कि हम खुश हैं ना और बाकी दुनिया जो समझे। 

एक फेवरेट विडियो के साथ पोस्ट ख़त्म करता हूँ :--      (कमेंट बॉक्स खोलने के  बारे में सोचूंगा  … सो नो रिक्वेस्ट प्लीज)

शनिवार, 3 अगस्त 2013

सुबह की अज़ान, आरती का स्वर , धर्म और रोटी : महफूज़



हर बार 
सुबह की अज़ान 
आरती का स्वर 
हमसे 
रूठ जाता है।

सुबह की अज़ान में 
गीता के छंद 
भर दो 

मंदिर के आलोक में
क़ुरान के हर्फ़ पर
धर्म और रोटी
का व्यवहार
धरती पर आम कर दो --- 


(c) महफूज़


गुरुवार, 1 अगस्त 2013

एक कविता :-- ##### दरारों में शोर #####


आनंद, अँधेरे के रेशों में गुंथा हुआ 
एक सुकून है। 
शब्द, के भीतर अँधेरा बढ़ता 
जाता है और 
आनंद पर्त दर पर्त 
खुलता जाता है।
यही वो क्षण है जो 
व्यतीत नहीं होता 
वहीँ ठहरा रहता है,
इसीलिए यह एहसास नहीं है ---
आदमी आता है और बीत जाता है।
आसपास फैले हुए शोर के बीच 
एक नन्हा एकांत है जो 
शोर की दरारों में भर जाता है 
और आदमी को आदमी कर जाता है।।

(c) महफूज़ 

सोमवार, 24 जून 2013

महीनों बाद कुछ ब्लॉग पर लिखा, रिश्तों का संत्रास ....मजेदार मगर कड़वा संस्मरण और कब तलक विश्वास करें गीत, ग़ज़ल और शे'रों पर" : महफूज़

आज बहुत महीनों के बाद दोबारा से ब्लॉग लिखने में बड़ा अजीब सा लग रहा है. लग रहा है कि कुछ है ही नहीं लिखने को या कहने को... हालांकि लिखने की कंसिस्टेंसी मेन्टेन तो रही है ... पर इतने महीनों के बाद ब्लॉग पर लिखना ... अम्म्म… ऐसा लग रहा है कि उंगलियाँ कीबोर्ड पर चल ही नहीं रही है। नेट, कंप्यूटर, या ब्लॉग पर लिखे तो काफी दिन हो गए हैं ... ह्म्म्म… महीनों हो गए हैं। कहते हैं कि ब्लॉग लिखना एक तरह से आज के मॉडर्न ज़माने में डायरी लिखने जैसा है .... बस फर्क यह  है कि डायरी में लिखी बातें सिर्फ आप तक रहतीं हैं और ब्लॉग पर लिखा हुआ पूरी दुनिया पढ़ती है. जिसे प्राइवेसी कहते हैं वो चीज़ ब्लॉग पर नहीं है। फिर भी यह तो है कि हम ब्लॉग लिखते हैं। वैसे एक बात तो है कि ब्लॉग की दुनिया ने मुझे बहुत कुछ दिया ... दोस्त ज्यादा और दुश्मन कोई भी नहीं ... हाँ! यह है कि छुट-पुट टुन्न-पुन्न तो हर जगह लगी ही रहती है. फिर भी मुझे तो ब्लॉग जगत ने मुझे बहुत कुछ दिया। अब यह बात अलग है कि फेसबुक के आने से वो बात अब ब्लॉग पर नहीं रही पर लगता तो ऐसा ही है कि ब्लॉग तो पहला घर है. वापस ब्लॉग पर कुछ लिखना थोडा सा पैथेटिक लग रहा है। 

समझ ही नहीं आ रहा है कि क्या लिखूं? जब ब्लॉग लिखा करते थे तो दिमाग में पहले से ही सब्जेक्ट मैटर तैयार रहता था ... अभी तो यह हाल है कि कुछ ध्यान ही नहीं आ रहा कि क्या लिखा जाये? एक बड़ा मजेदार संस्मरण याद आ रहा है ... सोच रहा हूँ कि लिखूं या नहीं ...अम्म्म .... लिख ही देता हूँ ... थोडा सा हम सबका एंटरटेनमेंट भी जायेगा और सोचने को भी मजबूर करेगा। 

हुआ क्या कि मेरा एक दोस्त है (जिसका नाम-वाम लिखना ज़रूरी नहीं है). बहुत ही ज़्यादा सेंसिटिव है .... पर्सनालिटी में भी ठीक है ... और रिच भी है हर तरह से और साथ ही साथ शादी-शुदा भी ... मगर अपनी पत्नी से बिलकुल भी संतुष्ट नहीं ... कोई भरोसा नहीं कि क्या पता आने वाले दिनों में तलाक - वलाक की नौबत आ जाए। इन महाशय जी की  एक गर्ल-फ्रेंड है जिसे यह अपनी सच्ची और सही मायने में पत्नी बताते हैं ... मगर कुछ कारणों से यह उससे शादी नहीं कर सकते। खैर! जो भी है हमें क्या? एक दिन क्या हुआ कि उन महाशय जी का मेरे पास फोन आया रात में दो बजे बड़े घबराए हुए ...उसने मुझे बताया रात में उसका किसी बात पर उसकी पत्नी से झगडा हुआ और दोनों में ज़बरदस्त मार-पीट हुई ... और उसी मार-पीट के दौरान उसकी गर्ल-फ्रेंड पत्नी का फोन आ गया .... जिसकी कॉल उसने झगडे में ही अटेंड की और जैसे ही कॉल उसने अटेंड की कि उसकी पत्नी जिससे कि उसकी मार-पीट चल रही थी ... उसने फोन छीन लिया ... और छीना झपटी दोनों में होने लगी ... इसी छीना झपटी में उसकी पत्नी जान बूझ कर बचाओ - बचाओ चिल्लाने लगी ... खैर! उसने फोन किसी तरह अपनी पत्नी से छीन कर काटा ... और थोड़ी देर के बाद शान्ति जब छा गयी तो उसने अपनी गर्ल-फ्रेंड पत्नी से बात की तो वो कहती है उससे कि वो अपनी पत्नी के साथ बेड पर था और उसने  एक मिनट की ज़बरदस्ती वाली आवाज़ बचाओ बचाओ के साथ सुनी है ... उसने काफी समझाने की कोशिश की मगर सब बेकार. अंत में थक हार-कर बैठ गया है। मैंने उसे यही समझाया कि भाई ... तू चूतिया है और रहेगा ... ज्यादा समझाने की ज़रुरत मैंने नहीं समझी क्यूंकि दो लोगों के बीच का रिश्ता सिर्फ वही दोनों समझ सकते हैं ... पर एक बात मैंने उसे कही कि जहाँ विश्वास ... ट्रस्ट नहीं ... वहां रहने का कोई फायदा भी नहीं ... 

 रिश्तों को समझना काफी  आसान भी है और मुश्किल भी। मुश्किल इसलिए कि जब कोई समझना ही नहीं चाहता तो आप कुछ नहीं कर सकते ...खासकर तब जब सामने वाला आप में सिर्फ बुराई ही ढूँढने की कोशिश कर रहा हो.... और समझना बिलकुल भी नहीं चाह रहा हो। वो रिश्ता ही क्या जिसमें एक्सप्लेनेशन देना पड़े और सामने वाला बुराई ही खोजने पर आमादा हो। अपना तो यही मानना है कि "If you Love the person... Just Love in anyway... as what she or he is..."

और नहीं तो मेरे फेसबुक में फ्रेंड लिस्ट में एक सोनाली बोस हैं ... उन्होंने एक बार लिखा था ... जो कि मुझे काफी अच्छा भी लगा था और उन्होंने रिश्तों को काफी अच्छे से डिफाइन भी किया था जो कि पढने में तो कड़वा था .... मगर सच था ... उन्होंने लिखा था ----

"जिस तरह हमारे जन्म के साथ ही हमारी मृत्यु का दिन भी निश्चित होता है उसी तरह हर नये रिश्ते के जन्म के साथ ही उस रिश्ते की मियाद भी तय होती है...हर नया रिश्ता अपनी उम्र साथ लिखा कर लाता है.... अगर आप किसी रिश्ते को उसकी तय की हुई सीमा से आगे खिचेंगे तो ज़ाहिर है कि वो नहीं चल पायेगा...रिश्ते हमारे जीवन में सुख और खुशी लाते हैं.... हर रिश्ता कुछ ना कुछ सिखाता है और बहुत हद्द तक हमारे जीवन को प्रभावित भी करता है, लेकिन आप किसी मृतप्राय रिश्ते को कुछ दिन वैंटिलेटर पर रख कर कुछ और सांस तो दे सकते हैं लेकिन ज़िंदा नहीं रख सकते हैं... ऐसे मरे हुए, बेकार, निर्जीव और बोझिल रिश्तोँ के बोझ को उतार फेंकने में ही हमारी समझदारी है, मैं यहाँ पर हर किस्म के रिश्तोँ की बात कर रही हूँ... याद रखिये यदि आज हम खुश और आनंदित नहीं हैं तो हम किसी और को भी क्या सुख और आनंद दे पायेंगे.... इंसानी फितरत है कि जो हम पाते हैं वही बांटते हैं...इसलिये खुशी बांटिये, आनंद साझा करिये और जितना हो सके रिश्तोँ को संभालिये लेकिन आत्मसम्मान की कीमत पर नहीं... बोझ हमेशा बोझ ही रहेगा..... और रूई भी जब भीग जाती है तो भारी हो जाती है, ये तो फिर भी रिश्ते हैं...इन्हेँ प्यार और विश्वास की धूप में हमेशा सुखाये रखिये... हल्के हल्के रिश्ते तितली की तरह उड़ने लगेंगे.... लेकिन अगर तमाम कोशिश के बाद भी वो नहीं चल पा रहे हैं तो उन्हेँ छोड़ दिजिये... किसी भी बंधन में बंध कर कोई भी पनप नहीं पाया है... बाकि आपकी और मेरी मर्ज़ी, जो चाहे करेँ... है ना?"

मगर फिर भी मेरा यह मानना है कि रिश्ता लंबा और ता-ज़िन्दगी तभी कायम रहता है जब दो लोग उसे कायम रखना चाहें ... जिसमें ट्रस्ट अटूट हो और प्यार सागर से भी गहरा ... कोई भी चीज़ दोनों में से मिसिंग हो ... तो सोनाली जी की बातों को मान लेना चाहिए और आगे की सुध लेनी चाहिए .... मेरी एक कविता है जिसकी छोटी सी पंक्तियाँ हैं जो मुझे इस वक़्त याद रही है ... 

                                              "रात उतर आई है,
                                                सूरज के पैरों पर 
                                               ग़म भर नज़र है 
                                                शक के घेरों पर 
                                                हम कब तलक  
                                                    विश्वास     
                                                      करें 
                                               गीत, ग़ज़ल और शे'रों पर" 
                                                                                        (c) महफूज़ 

इसी के साथ विदा लेता हूँ .... हाँ! यह है कि ब्लॉग पोस्ट अब हर हफ्ते या टाइम मिलने पर लिखूंगा। 

सोमवार, 28 जनवरी 2013

पथराई आँखें, प्रतीक्षा तुम्हारी और कुछ घर के फूल : महफूज़

आहट पे तुम्हारी,
पलकें बिछीं हैं हमारी,
पथराई आँखें,
प्रतीक्षा तुम्हारी. 

              पलकों की कालीन बिछी है
              कमरे की हर चीज़ सजी है
              गुलदस्ते की आँखें कहतीं 
              रेतीली आशाएं सारी.
              पथराई आँखें,
               प्रतीक्षा तुम्हारी. 

नाखूनों से ज़मीं कुरचते
अंतर पलकों का भीगा,
राह रोकते, बाट जोहते,
नयनों की भाषा हारी 
पथराई आँखें,
प्रतीक्षा तुम्हारी. 

               युग आँखों में बीत गया है 
               सपना दिन में रीत गया है 
               चादर के कोने से कब तक 
                खेलेंगी उँगलियों हमारी 
              पथराई आँखें,
              प्रतीक्षा तुम्हारी.   

दिन हाशिया खींचने सा लगा है
प्यार की पहर नयनों में फ़िर उगा है 
आईना लिए मैं बैठी हूँ कबसे
न वो जीत में है न मैं बाज़ी हारी 
पथराई आँखें,
प्रतीक्षा तुम्हारी. ...

(c) महफूज़ अली 

(यह सारे फूल घर के ही हैं )

मंगलवार, 15 जनवरी 2013

आईये जानें कुछ भारतीय दर्शन और आध्यात्मवाद: महफूज़


आज इस साल की पहली ब्लॉग पोस्ट पोस्ट करने का टाइम काफी दिनों के बाद मिला है। पिछले कई महीनों से मैं हिंदी साहित्य और हिंदुस्तानी फ़िलौसोफ़ि (दर्शन) का अध्ययन कर रहा हूँ। मेरे यह नहीं समझ आता कि हमारा हिंदी साहित्य इतना समृद्ध है फिर भी इसकी मांग क्यूँ नहीं है? हम सिर्फ बातों में ही हिंदी डेवलपमेंट कर सकते हैं और अगर आजकल के हिंदी के लेखकों के नाम पूछो तो लोग वही प्रेमचंद/महादेवी वर्मा ही  बताएँगे। आजकल के बच्चों को हिंदी के लेखकों के नाम ही नहीं पता, लेखक होंगे तो पता होंगे न? रही बात हिंदुस्तानी दर्शन की तो लोग सिर्फ टर्मीनौलौजीज़ से ही परिचित हैं अगर हम किसी से हिंदुस्तानी दर्शन पर सवाल पूछें तो लोग बगलें झाँकने लगते हैं या फिर बातों को बातों में ही खींचते हैं। मुझे बहुत अफ़सोस होता है कि लोग सिर्फ हिंदी के विकास के बारे में लिखते हैं "कि हिंदी का विकास करिए" मगर खुद सोचते और करते बिलकुल भी नहीं हैं। हिंदी के जैसा ही हाल भारतीय दर्शन का भी हो चुका है सिर्फ शब्दों से ही परिचित हैं।

आज मैं इसी भारतीय दर्शन के अंतर्गत "आध्यात्म" और "आध्यात्मवादिता" के बारे में सरल और आम भाषा में बता रहा हूँ। पहले तो यह बता दूं कि आध्यात्म का किसी भी धर्म से कोई भी लेना देना नहीं है,आध्यात्म एक प्राकृतिक (ईश्वरीय) प्रक्रिया है और धर्म मनुष्य निर्मित प्रक्रिया है। एक सामान्य भारतीय के जीवन का दार्शनिक आधार है "आध्यात्मवादिता"।  हमारे अंदरूनी भावों की ही आधार-शिला पर आधारित विचार मन में उठते हैं और उन्ही के सन्दर्भ में ही तमाम क्रियाएँ व्यक्ति तथा समाज के प्रति संपादित होती हैं। इन्हीं क्रियाओं के पीछे हमारा उद्देश्य भौतिक सुख तथा आनंद का ना होकर इससे परे आध्यात्मिक सुख का होता है। हमारी आँखों के सामने जो कुछ भी दिखता है वह हमारे इसी आध्यात्म के चश्मे के रंग में रंगा हुआ दिखता है।
(घर के फूल हैं, इनका भी एक अपना अलग दर्शन है)
जीवन तथा प्रकृति का कोई भी क्षेत्र हमारे सामने भले ही अपनी नम्रता लिए खड़ा हो पर हम उसमें ईश्वरीय मौजूदगी का ही दर्शन करते हैं। यही कारण है कि हमने जीव और जड में तो ईश्वर की साकार मूर्ति की कल्पना की है पर जो अदृश्य है उसमें भी हम ईश्वर को देखने लगते हैं (मूर्ति कल्पना और लिंग पूजन आज भी और विदेशी सभ्यताओं में भी पायी जाती है ... चीन, जापान और इंडोनेशिया में आज भी यह प्रचलित है). इसी ईश्वरीय अवधारणा से हमारी सारी क्रियाएं ईश्वर नियंत्रित और समर्पित होती है। यही आध्यात्म ही भारतीय जीवन दर्शन का "आध्यात्मवादिता" है। 
(घर के फूल हैं, इनका भी एक अपना अलग दर्शन है)
मगर हमारा आध्यात्मवाद कोरा भावनात्मक नहीं है, क्रियात्मक है। इसीलिए इस आध्यात्म को पाने के लिए हमेशा "कर्म" को ही प्राथमिकता दी गयी है। यही दूसरे शब्दों में "कर्मवाद" का सिद्धांत है। कर्मवाद की भावना हमारे जीवन में इसीलिए इतनी व्याप्त है कि किसी भी वस्तु के प्रति हमारे प्रत्येक के अन्दर अनासक्ति का भाव घर कर बैठा है, तथा यह इसलिए भी और बलवती है कि  हमारा सम्बन्ध भौतिक जगत से ना हो कर आध्यात्मिक जगत से ज्यादा है। वहीँ भारतीय दर्शन में यह भी कहा गया है कि धर्म वही है जो आपने धारण किया हुआ है जिससे स्वतः सुख हो मगर दूसरे को उससे कभी भी कष्ट ना हो।   

आध्यात्म का दो स्वरुप है: भौतिक और आध्यात्मिक। दूसरे शब्दों में यह सामूहिक और व्यक्तिगत है क्यूंकि जो भौतिक है वह सामूहिक है तथा जो आध्यात्मिक है वह व्यक्तिगत है। अब यहाँ व्यवहारिक एवं वैचारिक सम्बन्ध मानव निर्मित्त धर्म के ही आधार पर व्यक्ति का व्यक्ति से तथा व्यक्ति का समूह से बनाये रखने का प्रयास किया जाता है। इसीलिए भारतीय दर्शन में किसी भी मानव क्रिया में अर्थ और कर्म अगर उत्तेजक है तो यही मानव निर्मित्त धर्म के दर्शन द्वारा उसका नियंत्रण है। 


डिस्क्लेमर: प्रस्तुत आलेख में कुछ अंश भारत के सन्दर्भ में रशियन लेखन रोवोत्सकी (Dvorotski) की किताब से लिए गए हैं। बाकी लेख पूर्णतया मेरा है। फ़ोटोज़ का पोस्ट से कोई लेना देना नहीं है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

My page Visitors