सोमवार, 15 जून 2009

खुशी

आज मैंने सुबह
अपने कमरे की खिड़की
खोली थी,
खिड़की के एक कोने में
बादल का एक छोटा सा
टुकडा था।

मैंने फिर पूरी खिड़की खोल दी
बाहर आँगन में
तारों भरे आसमान
के कई टुकड़े पड़े थे॥









महफूज़ अली

8 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari ने कहा…

गहरे भाव!!

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

mahfooz bhai ...main stabd hoon aapki is rachna par ... kitne kam shabdo me aapne kitna kuch kah diya hai ...

is sajiv chitran ke liye aapko badhai ..

vijay
pls read my new sufi poem :
http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/06/blog-post.html

ओम आर्य ने कहा…

bhaw aise jisame dubaki lage par aanand hi ananad aaya bhai mere....bahut sundar

raj ने कहा…

khushi dhundni ho to badal ke kuchh tukde bhi de dete hai...na milni ho to barish se bhi nahi miltee....shabad boht khubsurat bhav usse bhi khubsurat...

Harkirat Haqeer ने कहा…

शब्दों पर अच्छी पकड़ है आपकी ....लिखते भी खूब हैं ....पर कुछ अधूरी सी लगी .....!!

anju ने कहा…

yeh
ali
aapkee khushi meri khushi
okies
nice write
A++++
anjali

rukhsar ने कहा…

sabne kaha hai hey to achi hai.par hamarey samaj me nai ayi

अल्पना वर्मा ने कहा…

चंद शब्दों में आप ने बहुत कह दिया.

[आँगन में तारों वाले आसमान.के टुकड़े !अद्भुत !]

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

My page Visitors