शनिवार, 20 जून 2009

अजनबी सी लगीं नहीं!!


कभी किसी महफिल

में तुम दिखीं नहीं,

कभी परियों के किस्सों

में भी तुम मिली नहीं।

न जानें क्यूँ फिर भी

मुझे तुम कभी

अजनबी सी

लगीं नहीं॥





महफूज़ अली

12 टिप्पणियाँ:

raj ने कहा…

kabhi kabhi aznabi jane pahchane se lagte hai.....boht hi khubsurat kavita......amazing.....

raj ने कहा…

kabhi kabhi aznabi jane pahchane se lagte hai.....boht hi khubsurat kavita......amazing.....

linda ने कहा…

Very nice.

अल्पना वर्मा ने कहा…

क्या बात है! बहुत खूब!

Udan Tashtari ने कहा…

वाह वाह!! दिल में तो झांको!! :)

M Verma ने कहा…

khubsurat -- mahsoos ki kavita.

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

obviously, you may have written it in different context but it seems that it's also true for "life" as well...
flawless...

...मुझे तुम कभी
अजनबी सी
लगीं नहीं॥

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

ali ji ,

deri se aane ke liye maafi chahunga ..

aapki is nazm ne to bahut gahra asar choda hai mujh par ...

मुझे तुम कभी
अजनबी सी
लगीं नहीं॥

waah waah .. sir , aapki kalam ko naman..

bahut hi zordaar pankhtiyan..

badhai sweekar kariye..

vijay

anju ने कहा…

maine kab kaha
kee tum muje ajnabi lagte ho
kabhi nahi
aankhe na melain yeh sahi
lekin dil to melain hain
aur kya
bas
bahut khub
----10 anjali

Raahila ने कहा…

very touching indeed!!!!! aap jo kuch likhte hain wo dil ko chhu leta hai...keep it up...

ओम आर्य ने कहा…

कहीं पिछले जन्मों का नाता तो नहीं..

अच्छा लिखा, छोटा और अच्छा

संजय भास्कर ने कहा…

मुझे तुम कभी
अजनबी सी
लगीं नहीं॥

BEHTREEN

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

My page Visitors