गुरुवार, 30 अप्रैल 2009

जाने क्या क्या तलाश करता हूँ,
जब भी बाज़ार से गुज़रता हूँ ,


मैं कोई पीर नहीं
आदमी हूँ , गुनाह करता हूँ।


लोग डरते हैं मौत से
'महफूज़ ' मैं ज़िन्दगी से डरता हूँ॥



महफूज़ अली

3 टिप्पणियाँ:

डा. अमर कुमार ने कहा…

اِتنے بیہترین خ یالات کو آپنے کوئی نام کیوں ن دِیا، میرے بھائی ؟

Harkirat Haqeer ने कहा…

मैं कोई पीर नहीं
आदमी हूँ , गुनाह करता हूँ।
लोग डरते हैं मौत से
'महफूज़ ' मैं ज़िन्दगी से डरता हूँ॥

बहुत खूब.....स्वागत है आपका......!!

raj ने कहा…

well said...main zindgee se darta hun....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

My page Visitors